विधायक अंगुराल के भाई पर समर्थकों के साथ हुड़दंग मचाने का आरोप

डीसीपी नरेश डोगरा और सेंट्रल विधानसभा क्षेत्र के विधायक रमन अरोड़ा के बीच हुए विवाद में एक और विवाद जुड़ गया है। रात को जिन्हें झगड़े में घायल बताकर अस्पताल में लाया गया था उनके साथ आए जालंधर वेस्ट के विधायक शीतल अंगुराल के छोटे भाई राजन का नाम भी अस्पताल में तोड़फोड़ में करने में जुड़ गया है। विधायक के भाई राजन अंगुराल के खिलाफ पुलिस थाना डिवीजन नंबर चार में शिकायत भी दी है।

अस्पताल में हुई तोड़फोड़ के विरोध में अस्पताल के स्टाफ ने गुरुवार को धरना लगाया। अपना विरोध जताते हुए स्टाफ ने कहा कि जिस तरह से रात को अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में हुड़दंग मचाया गया उससे रात्रिकालीन स्टाफ को भी नुकसान पहुंच सकता था। स्टाफ ने रात को अस्पताल में गुंडागर्दी करने वाले लोगों पर आरोप लगाया कि उन्हें काम से रोका गया उन पर विधायक के नाम का दबाब बनाया गया।

इतना ही स्टाफ ने कहा कि रात्रिकालीन शिफ्ट में ड्यूटी दे रहे चिकित्सकों पर भी इलाज के साथ-साथ मेडिकल लीगल रिपोर्ट के लिए दबाब बनाया। वैसे स्टाफ ने रात जो अस्पताल में गुंडागर्दी हुई और तोड़फोड़ हुई उसके खिलाफ सिविल सर्जन के माध्यम से पुलिस थाने में शिकायत भी दर्ज करवा दी है।

हालांकि पूछे जाने पर सिविल सर्जन रमन कुमार ने विधायक शीतल अंगुराल के भाई का नाम लेने से गुरेज किया लेकिन इतना जरूर माना कि रात को कुछ लोगों ने अस्पताल में तोड़फोड़ की है। जिसकी शिकायत उन्होंने थाने में दी है और मामला दर्ज करने कि लिए कहा है। सिविल सर्जन ने कहा कि मामला पुलिस ने किन-किन भारतीय दंड संहिता की धारा में दर्ज किया है अभी तक उन्हें कोई सूचना नहीं है।

सिविल सर्जन से रात को मेडिकल लीगल रिपोर्ट बनाने के लिए विधायक के नाम का इस्तेमाल कर दबाब बनाने संबंधी पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि इसकी उन्हें कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने इतना जरूर कहा कि अस्पताल में रात को जमकर गुंडागर्दी हुई और इसकी वजह से मरीजों और उनके तीमारदारों में परेशानी झेलनी पड़ी।

इसी बीच नर्सिंग स्टाफ यूनियन की प्रधान ने सरेआम कहा कि विधायक शीतल अंगुराल का छोटा भाई अस्पताल में आया था। उनके साथ आए लोगों ने अस्पताल में आकर तोड़फोड़ की औप गुंडागर्दी का प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि सभी लोगों ने विधायक का नाम इस्तेमाल कर उन पर दबाब बनाने की कोशिश की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *