शाम को समझौता, फिर डीसीपी डोगरा का ट्रांसफर हुआ

जालंधर सेंट्रल हलके के विधायक रमन अरोड़ा-समर्थकों और डीसीपी नरेश डोगरा के बीच बुधवार रात को हुई मारपीट मामले में वीरवार को नया मोड़ आ गया। वीरवार सुबह विधायक अरोड़ा के समर्थकों की एमएलआर दर्ज करवाने अस्पताल पहुंचे जालंधर वेस्ट के विधायक शीतल अंगुराल के बड़े भाई राजन पर ड्यूटी पर तैनात महिला डाॅक्टर से गलत एमएलआर काटने का दबाव बनाने का आरोप लगाकर 15 स्टाफ मेंबर्स के साथ दुर्व्यवहार की शिकायत भी मेडिकल सुपरिंटेंडेंट के मार्फत पुलिस को दी। कार्रवाई नहीं होने से नाराज डाॅक्टर्स ने धरना भी दिया।

राजन अंगुराल ने डाॅक्टर के आरोपों को बेबुनियाद बताया। मामले में सबसे पहले घटनास्थल पर मौजूद लोगों व धक्कामुक्की का वीडियो वायरल हुआ। फिर डीसीपी (इन्वेस्टिगेशन) जसकिरनजीत सिंह तेजा ने पहले स्टेटमेंट दी कि डीसीपी डोगरा के खिलाफ एफआईआर नंबर-159 दर्ज कर ली गई है। फिर विधायक रमन अरोड़ा और डीसीपी के बीच तल्खी का वीडियो वायरल हुआ। नरेश डोगरा के मेडिकल में 7 अंदरूनी चोटों की पुष्टि हो गई। 2 घंटे बाद डीसीपी (सिटी) जगमोहन सिंह ने कहा, अभी एफआईआर नहीं हुई है। विधायक रमन अरोड़ा ने बार-बार संपर्क करने पर फोन नहीं उठाया। देर शाम दोनों पक्षों में समझौता हुआ। डोगरा ने बताया, उन्हें एआईजी-2 पीएपी में भेजा गया है।

डीसीपी नरेश डोगरा के सिविल में हुए मेडिकल में मिले 7 चोट के निशान

डीसीपी डोगरा ने करीब 6 बजे सिविल अस्पताल में मेडिकल जांच के बाद मेडिको लीगल रिपोर्ट कटवाई। मारपीट से उनके शरीर पर अंदरूनी चोटों के करीब 7 निशान मिले हैं। डोगरा ने कहा, वे विधायक से सुलह करने गए थे। लेकिन विधायक रमन अरोड़ा, उनके समधी राज कुमार मदान और अन्यों ने गाली-गलौज के बाद मारपीट की। दूसरी ओर सिविल में विधायक रमन अरोड़ा के समर्थकों की एलएलआर कटवाने पहुंचे आप विधायक शीतल अंगुराल के बड़े भाई राजन अंगुराल पर ड्यूटी पर तैनात डाॅक्टर ने गलत एमएलआर काटने का दबाव बनाने का आरोप लगाया।

विधायक के समधी की स्टेटमेंट ली, पर अभी एफआईआर दर्ज नहीं हुई

पुलिस कमिश्नर गुरशरण सिंह संधू ने कहा, स्टेटमेंट ली गई है। विधायक के समधी राज कुमार मदान ने पुलिस को दी स्टेटमेंट में कहा कि वे विधायक व अन्योें के साथ घटनास्थल पर गए थे। यहां पर कार्यालय की पार्किंग में डीसीपी ने समर्थकों के साथ उन पर हमला किया। विधायक को बचाने में उनके तीन साथी जख्मी हुए। इस दौरान बीच-बचाव को आए एक दलित युवक को जातिसूचक शब्द बोले गए। संधू ने कहा, अभी एफआईआर दर्ज नहीं की गई है, क्योंकि अभी डीसीपी की स्टेटमेंट भी लेनी बाकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *